शिकायत बोल

शिकायत बोल
ऐसा कौन होगा जिसे किसी से कभी कोई शिकायत न हो। शिकायत या शिकायतें होना सामान्य और स्वाभाविक बात है जो हमारी दिनचर्या का हिस्सा है। हम कहीं जाएं या कोई काम करें अपनों से या गैरों से कोई न कोई शिकायत हो ही जाती है-छोटी या बड़ी, सहनीय या असहनीय। अपनों से, गैरों से या फ़िर खरीदे गये उत्पादों, कम्पनियों, विभिन्न सार्वजनिक या निजी क्षेत्र की सेवाओं, लोगों के व्यवहार-आदतों, सरकार-प्रशासन से कोई शिकायत हो तो उसे/उन्हें इस मंच शिकायत बोल पर रखिए। शिकायत अवश्य कीजिए, चुप मत बैठिए। आपको किसी भी प्रकार की किसी से कोई शिकायत हो तोर उसे आप औरों के सामने शिकायत बोल में रखिए। इसका कम या अधिक, असर अवश्य पड़ता है। लोगों को जागरूक और सावधान होने में सहायता मिलती है। विभिन्न मामलों में सुधार की आशा भी रहती है। अपनी बात संक्षेप में संयत और सरल बोलचाल की भाषा में हिन्दी यूनीकोड, हिन्दी (कृतिदेव फ़ोन्ट) या रोमन में लिखकर भेजिए। आवश्यक हो तो सम्बधित फ़ोटो, चित्र या दस्तावेज जेपीजी फ़ार्मेट में साथ ही भेजिए।
इस शिकायत बोल मंच के बारे में अपने इष्ट-मित्रों को भी बताएं।
ई-मेल: शिकायत बोल
shikayatbol@gmail.com
फ़ेसबुक पर

बुधवार, 3 सितंबर 2014

रसोई गैस

ग्राहक बना बेचारा 
द्वापर युग के चक्रव्‍यूह से भी अधि‍क पेचीदगी वाला है कुकिंग गैस वि‍रतण तंत्र। आगरा में कुकि‍ग गैस वि‍तरण व्‍यवस्‍था अवि‍श्‍वसनीयता के दौर में पहुंच गयी है। एक ओर इस पर न तो भारत सरकार के कार्यदायी उपकृम ही नि‍गरानी करने की स्‍थि‍ति‍ में हैं और न ही दूसरी ओर समाजवादी सरकार के नागरि‍क अपूर्ति‍ व्‍यवस्‍था से जुडा तंत्र। बुकिंग के लि‍ए इस्‍तेमाल में आ रहा साफ्टवेयर टैम्‍परि‍ग का शि‍कार है। आप कई ट्रायल में अगर गैस का सि‍लेण्डर बुक करवाने में कामयाब भ्‍ाी हो गये तो इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि‍ आपके पास सि‍लेण्डर पहुंच ही जाए। यह बात अलग है कि‍ मोबाइल पर एसएमएस का आना जरूर बना रहेगा। 
जब डि‍लीवरी का मैसेज आये दो दि‍न बीत जायेंगे तब आप थो़ड़े परेशान होकर जब डीलर के पास पहुंचेंगे तो कम्‍प्‍यूटर के करसर को एक-दो बार क्‍लि‍क करके वह कहेगा कि‍ कल आपको आपका सि‍लेंडर मि‍ल जायेगा।   गैस कंपनि‍यां करवाये सर्वेक्षण आप तो असंगठि‍त उपभोक्ता होने के कारण भले ही बेवजह के झगडे़ से बचने के लि‍ये चुप होकर बैठ जाये कि‍न्‍तु इंडि‍यन आइल और भारत पैट्रोलि‍यम के सेल्‍स और पीआरओ विभागों को खामोश होकर नहीं बैठना चाहि‍ए। लगातर सर्वेक्षण करवाने पर मि‍ले पब्‍लि‍क फीडबैक के आधार पर उन आपराधि‍क तत्‍वों के प्रति‍ सख्‍ती करनी चाहि‍ए जो आम उपभोक्‍ता को समय से गैस सि‍लेण्डर पहुंचाये जाने की जिम्मेदारी से बचने के लिए साफ्टवेयर में बेखौफ टैम्‍परिंग कर रहे हैं। 
इस मामले में पुलि‍स की साइबर सैल खास उपयोगी साबि‍त हो सकती है, संसाधनों की दृष्‍टि‍ से तकनीकी रूप से गडबडी़ करने वालों तक पहुंचने में पूरी तरह सक्षम है। वर्तमान में आगरा में आम उपभोक्‍ता पूरी तरह से असंगठि‍त है और उसके सामने वि‍तरण तंत्र का एक ऐसा चक्रव्‍यूह है जि‍समें घुसकर नि‍कलना द्वापर युग से भी कई गुना मुश्‍कि‍ल है।
• राजीव सक्सेना
आगरा/फ़ेसबुक

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.